Pages

Saturday, 25 March 2017

लाक्षा गृह, बरनावा

महाभारत के युद्ध से पहले युधिष्टिर ने निवेदन किया की उन्हें अगर हस्तिनापुर राज्य नहीं दिया जा सकता तो उसके बदले में केवल पांच गाँव ही दे दिए जाएं - पानीपत, सोनीपत, बागपत, तिलपत और वरुपत. पर कहाँ मिलने थे ये गाँव. दुर्योधन ने जवाब में कहा की सुई की नोक के बराबर भी जमीन नहीं दूंगा. बल्कि दुर्योधन ने पांडवों को मारने के लिए लाख का महल बनवाने की तैयारी करनी शुरू कर दी थी.

दुर्योधन ने अपने मंत्री ( या शिल्पकार? ) पुरोचन से सुंदर सा एक महल बनवाया. पर था वो लाख का बना हुआ याने जिसे आग जल्दी से ध्वस्त कर दे. पांचो भाई और कुंती वहां रहने के लिए पहुँच गए. पर समय रहते महात्मा विदुर ने पांडवों को सूचना पहुंचा दी. महल से नदी तक गुफा बना ली गई. फिर एक रात भीम ने महल में आग लगा दी. महल और उसमें सोया पुरोचन अग्नि की भेंट हो गए. पांचो पांडव और कुंती गुफा के रास्ते नदी तट पर सुरक्षित पहुँच गए.

यह कथा बहुत ही संक्षिप्त इसलिए कर दी की आपने पढ़ी, सुनी या टीवी पर देखी जरूर होगी. ये लाक्षा गृह कहाँ था? क्या कोई अवशेष मिले हैं इस किले के? इस विषय पर बहुत से लोगों बात हुई, इंटरनेट पर काफी पड़ताल की तो पता लगा की:

- एक लाक्षा गृह बरनावा में है जहाँ हिंडन नदी बहती है. ये जगह मेरठ से 35 किमी दूर है, 
- एक लाक्षा गृह चकराता, देहरादून से 60 किमी आगे यमुना तट पर है और 
- एक लाक्षा गृह इलाहाबाद के पूर्व में गंगा तट पर बताया जाता है.

इनमें से प्रामाणिक स्थान कौन सा है पता नहीं. अगर ऊपर लिखे पांच गांव - पानीपत, सोनीपत, बागपत, तिलपत और वरुपत - के नाम सही मान लिए जाएं और अगर हस्तिनापुर से बरनावा की दूरी देखी जाए - जो की 65 किमी है - तो बरनावा में ही लाक्षा गृह होना चाहिए. इसके अतिरिक्त महात्मा विदुर का गाँव बिजनौर भी हस्तिनापुर से दूर नहीं है. पर यहाँ गंगा नदी नहीं बहती बल्कि हिंडन और कृष्णा नदियों का संगम है. कृष्णा को अब काली कहते हैं जो वाकई काली हो चुकी है और लगभग ना के बराबर रह गई है. हिंडन की हालत भी नाज़ुक है जो नोयडा जाकर यमुना में मिल जाती है. बहरहाल मेरठ की रोहटा रोड लेते हुए हम बरनावा पहुँच गए. जब कभी देहरादून और इलाहाबाद की यात्रा होगी तो वहां के भी लाक्षा गृह देख लेंगे. पर देखकर लगा की हमारी तरह पुरातत्व विभाग भी संशय में ही है.

सड़क के साथ ही 100 फुट ऊँचा और 30 एकड़ में फैला हुआ एक विशाल टीला है जिस पर ASI का बोर्ड लगा है कि लाखा मंडल के नाम से प्रसिद्ध टीला. इसे पढ़ कर तसल्ली नहीं हुई कि लाक्षा गृह के लिए हाँ माना जाए या ना. टीले पर एक लाल पत्थर की बारादरी है, दो टूटे हुए गुम्बद हैं. ये कब और किसने बनाए इसके बारे में कुछ लिखा नहीं है. टीले के नीचे दो गुफाऐँ हैं जहाँ से हिंडन नदी 100 - 125 मीटर दूर है. टीले पर एक संस्कृत महाविद्यालय है जिसका एक छात्र ही हमारा गाइड था. गौशाला, यज्ञशाला और छात्र हॉस्टल भी है.
कुछ फोटो प्रस्तुत हैं: 


बाईं गुफा 
दाहिनी गुफा 
गुफा 

टीले से लिया गया फोटो. लाल बिंदु दाहिनी गुफा और लाल लाइन हिंडन नदी दिखा रहे हैं 

ASI के बोर्ड पर लिखा है  - लाक्षा मंडप के नाम से प्रसिद्द टीला,  Mound known as Lakha Mandap

टीले पर बनी बारादरी 
पता नहीं कब और किसने बनाई ये ईमारत
एक और गुम्बद 
प्रवेश द्वार 
बोर्ड पर लिखा है - महाभारत पर्यटन सर्किट योजना के अंतर्गत चिन्हित - 'लाक्षा गृह क्षेत्र, बरनावा (बागपत) आपका स्वागत करता है' 
लाखा मंडप टीले के ऊपर से नज़र आता बरनावा गाँव और बीच में है जैन मंदिर   

लाल बिंदु बरनावा गाँव दिखा रहा है. मेरठ से 35 किमी दूर 

खोजी यात्री लाखा मंडप टीले पर. इस काले पत्थर पर इस तरह से लिखा हुआ है: "बरनावा की पहचान महाभारत में वर्णित वारणावत से की गई है. यह हिंडन एवं कृष्णा नदियों के संगम पर स्थित है. गाँव के दक्षिण में लगभग 100 फीट ऊँचा और 30 एकड़ पर फैला हुआ एक टीला है जिसे लाक्षा गृह का अवशेष समझा जाता है. इस टीले के नीचे दो सुरंग स्थित हैं. इसी लाक्षा गृह में कौरवों ने पांडवों को एक षड्यंत्र  के अंतर्गत मारने का असफल प्रयत्न किया था. कहा जाता है कि पांडवों ने उक्त अग्निकांड से निकलने हेतु इस टीले के नीचे स्थित इन्हीं सुरंगो का प्रयोग किया था. वर्तमान में यहां एक संस्था श्री गांधी धाम समिति, वैदिक अनुसंधान समिति तथा श्री महानंद संस्कृत महाविद्यालय भी स्थापित है"




Post a Comment