Pages

Thursday, 22 April 2021

देह दान

पौराणिक कथाओं में एक कथा है महर्षि दधीचि की. संक्षेप में ये कथा इस प्रकार है: एक बार वृत्रा नामक असुर ने इंद्रलोक पर कब्ज़ा जमा लिया. इंद्र समेत सभी देवता इन्द्रलोक से निष्काषित कर दिए गए. इन्द्रलोक वापिस लेने के देवताओं के सारे प्रयास विफल हो गए. अब देवता ब्रह्मा के पास गए. ब्रह्मा ने सारी बात सुनने के बाद कहा कि वृत्रा से छुटकारा पाने का एक ही उपाय है. अगर पृथ्वी लोक के महर्षि दधीचि अपनी अस्थियां दान कर दें तो उन अस्थियों से बना वज्र वृत्रा को समाप्त कर देगा, इसके अलावा वृत्रासुर पर कोई भी अस्त्र-शस्त्र कारगर नहीं हो पाएगा. पृथ्वी लोक पहुँच कर देवताओं ने दधीचि से प्रार्थना की तो वो प्राण त्यागने को तैयार हो गए. दधीचि के अंतिम संस्कार के बाद उनकी अस्थियों से गदा बनाई गई और उस गदा से वृत्रा का अंत हुआ. इंद्र को इंद्रलोक वापिस मिल गया. इस कथा या मिथक का तात्पर्य शायद यही है कि जीते जी सब कुछ दान कर देना एक महान कर्म है, पुण्य का काम है.

आजकल के हालात में दधीचि की तरह जीते जी तो कौन अपना शरीर दान कर पाएगा? हाँ कुछ अंग या ऑर्गन जैसे की आँख की पुतली, किडनी, लीवर वगैरह काफी लोग दान कर रहे हैं. पर ऐसे लोगों की गिनती इतनी बड़ी जनसंख्या को देखते हुए बहुत ही कम है. इतना ज़रूर है कि रक्त दान करने वालों की संख्या काफी बढ़ गई है. जैसे जैसे रक्त दान के बारे में जानकारी बढ़ी है उस से रक्त दान करने में झिझक नहीं रह गई है. परन्तु अंग दान या मृत शरीर का दान देने में अभी जानकारी की कमी है और साथ ही इच्छा की भी. 

मृत शरीर भी दान दिया जा सकता है जो एक तो मेडिकल कॉलेज की पढ़ाई में काम आता है और मृत शरीर के कुछ अंग ट्रांसप्लांट के लिए भी दान दिए जा सकते हैं. पहले लावारिस लाशों को पुलिस मेडिकल कॉलेज भेज दिया करती थी पर अब उसका पोस्ट मोर्टेम कर के रिकॉर्ड रखा जाता है. इसके चलते अब मेडिकल कॉलेजों में ट्रेनिंग के लिये 'बॉडी' की कमी महसूस की जा रही है. 

भारत में किडनी, लीवर, गाल ब्लैडर, बोन मेरो( हड्डियों की मज्जा ) बदलने का काम याने transplant बहुत बढ़िया होता है और दूसरे देशों के मुकाबले सस्ता होता है जिसके कारण बहुत से देशों से लोग ट्रांसप्लांट कराने भारत आते हैं. पर इसके साथ साथ अंगों का गैर कानूनी व्यापार भी चल पड़ा है.  

भारत में अंग दान सम्बंधित क़ानून 1994 में बना था. इसके बाद 2011 में संशोधित हुआ और मार्च 2014 में जारी किया गया ( Transplantation of Human Organs and Tissues Rules 2014 ).

पूरी दुनिया में अंग दान को बढ़ावा देने के लिए हर साल 13 अगस्त को विश्व अंग दान दिवस भी मनाया जाता है.

कुछ देशों में ड्राइविंग लाइसेंस में शर्त डाल दी जाती है कि अगर सड़क दुर्घटना में लाइसेंस धारक ड्राईवर की मृत्यु हो जाती है तो उसके कुछ अंग बिना किसी कानूनी अड़चन के तुरंत निकाले जा सकते हैं.

ईरान में अंग दान करने वाला कानूनी तौर पर मुआवज़ा पाने का हकदार माना जाता है. इस कानून के चलते वहां अंग पाने वालों की लिस्ट लम्बी नहीं होती और ट्रांसप्लांट का काम व्यवस्थित ढंग से चलता है. 

अंग दान और देह दान के भावनात्मक पहलू भी हैं जो दान को आगे बढ़ने में रुकावट का काम करते हैं. अगर मेडिकल कॉलेज को देह दान कर दी तो अंतिम संस्कार का क्या होगा? कैसे होगा? और बाद में वो चीर फाड़ कर के फेंक देंगे तो? मृत शरीर का नहलाना धुलाना, चार कन्धों पर राम नाम सत्त बोलते हुए शमशान ले जाना, अगले दिन फूल चुनना, हर की पैड़ी का विसर्जन और पूजा पाठ, इन सब का क्या होगा? रिश्तेदार, दोस्त, अड़ोसी पड़ोसी और समाज इसका क्या अर्थ लगाएगा? हमारे विचार को कैसे समझेगा?

इसलिए जब श्रीमति ने घर में पहली बार ये विषय चर्चा के लिए उठाया तो सीधा सीधा जवाब देने में उलझन हो गई. हाँ या ना सोच विचार कर के ही कहा जा सकता है. घर पर कई महीनों तक इस विषय पर रुक रुक कर विचार विमर्श चलता रहा और एक दिन हम मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल से मिलने चले गए. बातचीत में कई नई बातें पता लगीं : 
- मृत शरीर पर वारिसान अर्थात लीगल हेयर का अधिकार है ( मरने वाले का नहीं है! ). वारिसों की लिखित सहमति की बगैर देह दान नहीं किया जा सकता. इसलिए देह दान का जो फॉर्म एफिडेविट के रूप में भरा जाएगा उस पर वारिसों के दस्तखत भी होंगे. प्रिंसिपल साब ने बताया कई बार ऐसा भी हुआ है कि फॉर्म तो भर दिया पर जब मृत शरीर उठाने एम्बुलेंस पहुंची तो वारिस आपस में लड़ पड़े और बॉडी नहीं दी.
- मृत्यु के तुरंत बाद खबर कॉलेज में पहुंचानी ज़रूरी है. कई बार अनजाने में वारिसान की ओर से समय पर सूचना ही नहीं दी जाती जिसके कारण एम्बुलेंस नहीं भेजी जा सकी.  
- मृत शरीर का चार घंटे के भीतर मेडिकल कॉलेज पहुँचना जरूरी है ताकि शव पर लेप लगा कर सुरक्षित रखा जा सके. ज्यादातर शव बारह महीने तक ही रखे जाते हैं. 
- मृत शरीर का अंग भंग नहीं होना चाहिए 'नेचुरल डेथ' वाली बॉडी चाहिए. एक्सीडेंट में हुई मृत्यु जिसमें अंग भंग हो गया हो, नहीं चाहिए क्यूंकि उसे लम्बे समय तक रखा नहीं जा सकता और छात्रों को चीर फाड़ में पूरी तरह से काम नहीं आ पाती.  
- देह दान के एवज़ में किसी तरह की कोई प्रोत्साहन राशि वगैरह नहीं दी जाती.
प्रिंसिपल साब ने एक फाइल भी दिखाई जिसमें 15-20 एफिडेविट लगे हुए थे. इनमें से दो तो डॉक्टर्स के थे. 
अपने विचार और मेडिकल कॉलेज की सारी शर्तों पर बच्चों के साथ विचार विमर्श हुआ ( बच्चे कहना हमारे लिए तो ठीक है पर वो हैं 39, 37 और 34 साल के! ). शुरू में तो बच्चों के भी वही सब सवाल थे जो हमारे मन में आए थे. कई दिन की बातचीत के बाद लिखित सहमति मिल गई. 

स्टाम्प पेपर पर फॉर्म की भाषा छपवा ली है और सभी के हस्ताक्षर भी हो गए हैं. अब नोटरी के हस्ताक्षर करा के मेडिकल कॉलेज में जमा करना है. इस कोरोना कमबख्त से फुर्सत मिले तो काम पूरा करा देते हैं.

देह दान महा कल्याण 


Saturday, 27 March 2021

लाइसेंस

गोयल साब ने अपना पुराना ब्रीफकेस खोला. खज़ाना इसी में दबा हुआ था. बैंक की फिक्स डिपाजिट, कुछ शेयर्स, बीमे के कागज़, आधार कार्ड वगैरह सब इसी में थे. बड़ी पुरानी ब्रीफकेस है ये किसी ज़माने में इसमें अपनी गर्ल फ्रेंड की फोटो भी रखते थे पर साब अब वो ज़माने नहीं रहे. अब तो हुलिया बदल चुका है. सिर के बाल हवा हवाई हो गए हैं, बियर के शौक से तोंद निकल आई है और रिटायर होने के बाद फटफटिया चलानी भी बंद हो गई है. जवानी में बहुत घुमाया था और वो छोड़ कर पहुँच गई अमरीका. 

फिलहाल तो राज़ को राज़ ही रहने देते हैं क्यूंकि अभी तो ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत थी जो इसी ब्रीफकेस में पड़ा रहता था पर नज़र नहीं आ रहा है. बैंक की गाड़ियां और ड्राईवर मिलने के बाद कभी लाइसेंस की जरूरत ही नहीं पड़ी थी. अब ब्रीफकेस खोलना पड़ा. ये लो लाइसेंस तो मिल गया पर चार महीने पहले एक्सपायर हो चुका है! अब क्या होगा? 

दोस्त यारों को फ़ोन फान किये पर सिर्फ सलाह ही मिली. किसी ने यूँ नहीं कहा की चलो मैं बनवा देता हूँ. सर्विस में होते तो बहुत से आगे पीछे घूमते रहते थे - सर सेवा बताएं? पता लगा की ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं घर बैठे नया लाइसेंस मिल जाता है. तुरंत अप्लाई कर दिया. पर चूँकि लाइसेंस  एक्सपायर हो चुका था तो अथॉरिटी जाना जरूरी बताया गया.

पुराना लाइसेंस, फोटू, आधार और पर्स लेकर अथॉरिटी में हाजिर हो गए. वहां पता लगा की पिछला लाइसेंस टाइम से नवीनीकरण नहीं कराया इसलिए अब टेस्ट भी देना पड़ेगा. ग्राउण्ड में गाड़ी चला कर आठ का आंकड़ा बना कर इंस्पेक्टर साब को दिखाना होगा. बड़ी मुश्किल हो गई. सालों साल गुज़र गए गाड़ी चलाए अब टेस्ट देना है. ग्राउंड कच्ची थी और धूल उड़ रही थी. असली देसी सड़क थी. गोयल सा के चेहरे के भाव पढ़ने में दलाल उर्फ़ टाउट ने देर नहीं लगाई. पास आकर बोला - सर क्या कराना है? गोयल सा की जान में जान आई. मात्र दो हज़ार में सेटिंग हो गई. 

- पहले तो सर आँखें ठीक हैं ये सर्टिफिकेट बनवा लो. ये बैठे हैं डॉक्टर साब. ढाई सौ दे दो इन्हें. नोट दिए और सर्टिफिकेट बन गया. 

- अब आप ये सारे कागज़ इंस्पेक्टर साब को दिखा दो. इस कागज़ के पीछे मैंने निशान बना दिया है. इंस्पेक्टर समझ जाएगा. वो आपको बोलेगा गाड़ी लाइन में लगा लो. आप लगा लेना. आठ की फिगर बना सको तो बना लेना, ना बना सको तो गोल घुमा के निकल जाना. सीट बेल्ट लगा लो और सिग्नल जरूर दे देना. रिवर्स के चक्कर में मत पड़ना आप. इस बड़ी गाड़ी में आप से नहीं हो पाने का. आपको छोटी गाड़ी लानी थी. मैं दिलवा दूँ पांच सौ में?

- अरे यार गाड़ी तो मैं चला लूँगा. फिर भी गोयल सा का दिल धड़कने लगा. पर जैसा बताया गया था वैसा ही करते रहे और बिना आठ का आंकड़ा बनाए गाड़ी घुमा कर ले आए. पर इंस्पेक्टर ने कहा की अभी काम अधूरा है आपको दोपहिये का भी टेस्ट देना होगा. ये नई मुसीबत खड़ी हो गई. दलाल को बताया तो वो बोला - कोई दिक्कत नहीं है सर जी. आप को अभी मोटर साइकिल दिलवाते हैं लाइए पांच सौ. हेलमेट ये रहा. 

- अरे यार बीस साल हो गए फटफटिया चलाए अब नहीं चलेगी मुझ से. तुम्हें पैसे तो दिए ना? अब क्यों टेस्ट देना है?

- सर विडियो बनती है विडियो. कार में आपकी बन चुकी है अब टू व्हीलर में भी तो आपकी ही बनेगी. आप बाइक नहीं चला पाओगे क्या? तो एक काम करो अपनी शर्ट उतार कर दे दो. आपकी जगह ये लड़का आपकी शर्ट पहन कर चला देगा. इसे पांच सौ दे दो. 

- शर्ट उतार दूँ? 

- हाँ हाँ शर्ट दे दो और आप उस पेड़ के पीछे बैठ जाओ. 

गोयल सा पेड़ के पीछे पहुंचे तो थोड़ी तसल्ली हुई क्यूंकि वहां एक और सज्जन बिना शर्ट के पहले ही विराजमान थे!

चलते हुए गोयल सा ने 'फीस' दी और कागज़ प्राप्त किये. दलाल बोला - सर 11 नंबर खिड़की में जमा करा दें. लाइसेंस सात दिन में आपके घर पहुँच जाएगा.

- अगली बार बिना गाड़ी के आ जाऊँगा क्यों? 

- हाँ सर गाड़ी हो या बाइक, हेलमेट हो या मेडिकल सर्टिफिकेट हम तो सारी सुविधाएं देते हैं सर. 

- अगर पैसे ना हों तो?

- तो सर ये जो आपने चेन पहनी है उसी से काम चला लेंगे! 

हेल्लो टेस्टिंग


यहाँ गाड़ी चला कर आठ बना कर दिखाएँ