Pages

Sunday, 29 December 2019

बुद्ध का मार्ग - 7

दस प्रश्न  

गौतम बुद्ध अपने उपदेशों के दौरान उठाए गए सवालों का जवाब भी देते थे. सवाल किसी के भी हों शिष्य के, साधू-संत के, व्यापारी के, यात्री के या फिर किसी राजा के. वे सभी को यथा योग्य उत्तर देते थे. फिर भी कुछ प्रश्न ऐसे थे जिनका बुद्ध ने उत्तर नहीं दिया. इन दस प्रश्नों को अव्याकृत ( अकथनीय ), प्रतिक्षिप्त ( जिनका उत्तर देना अस्वीकृत हो गया ) या अनुत्तर प्रश्न कहा जाता है. गौतम बुद्ध ने कहा की ये सवाल सार्थक नहीं हैं, उपयोगी नहीं हैं, तथा शांति, ज्ञान और निर्वाण के लिए आवश्यक भी नहीं हैं. 

इन सभी बातों का जिक्र 'सुत्त पिटक' के 'मज्झिम निकाय' में 63वें सुत्त में आता है जिसका शीर्षक है - चूलमालुंक्या-सुत्त. यहाँ चूल का मतलब है छोटा या short सुत्त और 'मालुंक्य' शिष्य का नाम है ( पूरा नाम मालुंक्य-पुत्त है ). 

एक समय में गौतम बुद्ध श्रावस्ती में अनाथपिण्डीक के आश्रम जेतवन में रह रहे थे. वहीं एक शिष्य मालुंक्य-पुत्त भी था जो कुछ सवालों को लेकर बहुत बेचैन था. काफी सोच विचार के बाद उसने फैसला किया की गौतम बुद्ध से ये दस सवाल पूछेगा और अगर सही जवाब नहीं मिला तो गृहस्थ आश्रम में वापिस चला जाएगा. सांयकाल की सभा के बाद उसने भगवान् बुद्ध को अभिवादन किया और इन दस सवालों के जवाब पूछे और साथ ही कह दिया कि अगर उचित जवाब ना मिले तो वह वापिस चला जाएगा. ये सवाल थे :
1. लोक शाश्वत है ?, 
2. लोक अ-शाश्वत्व है ?,
3. लोक का अंत है ?,
4. लोक अनंत है ?,
5. जीव और शरीर एक हैं ?,
6. जीव अलग है और शरीर अलग है ?, 
7. मरने के बाद तथागत विद्यमान रहते हैं ?,
8. मरने के बाद तथागत विद्यमान नहीं रहते ?,
9. मरने के बाद तथागत होते भी हैं और नहीं भी ? और
10. मरने के बाद तथागत न-होते हैं और न-नहीं-होते हैं ?.

भगवान् गौतम बुद्ध ने जवाब में कहा,
- हे मालुंक्या-पुत्त क्या मैंने तुम्हें बुलाया था और कहा था कि मैं इन दस सवालों के उत्तर दूंगा ?
- नहीं भन्ते.
- क्या तुमने ऐसा कहा था कि तुम यहाँ तब रहोगे जब मैं इन सवालों का उत्तर दूंगा ?
- नहीं भन्ते.
- तो सुनो मूर्ख पुरुष. यहाँ आकर इन सवालों के जवाब के लिए कोई रहेगा तो जीवन ही समाप्त हो जाएगा पर उत्तर नहीं मिल पाएगा. इन प्रश्नों पर तर्क वितर्क अंतहीन है. उदाहरण के लिए बाण से घायल एक व्यक्ति को उसके नाते रिश्तेदार वैद्य के पास लाए. क्या घायल व्यक्ति पहले बाण चलाने वाले का नाम, पता और जात पूछेगा फिर उपचार करवाएगा ? या कहेगा की पहले बताओ की बाण मारने वाला लम्बा था या नाटा था फिर उपचार करो ? या कहेगा की पहले बताओ कि बाण मारने वाला काला था या गोरा और किस गाँव का था फिर उपचार करना ? अर्थात जब तक इन सवालों का जवाब मिले तब तक तो घायल व्यक्ति स्वर्ग सिधार जाएगा !

- मालुंक्य-पुत्त तुम्हारे सवाल सार्थक और उपयोगी नहीं हैं.  ज्ञान, मन की शांति और निर्वाण के लिए यह प्रश्न व्यर्थ हैं. इसीलिए इन्हें अव्याकृत कहा है. जो व्याकृत हैं वही मैं कहता हूँ - 
1. जीवन में दुःख है, 
2. दुःख का कोई ना कोई कारण है, 
3. दुःख का अंत है और 
4. दुःख अंत करने का एक मार्ग है. मैं यही मार्ग समझाता हूँ. इस मार्ग पर चलने के लिए दस सवाल जरूरी नहीं हैं और इसीलिए अव्याकृत हैं. जिसे मैं व्याकृत कहूँ उसे ही व्याकृत के तौर पर धारण कर.


बुद्धम शरणम् गच्छामि 
सन्दर्भ :
1. मज्झिम निकाय - अनुवादक महापंडित राहुल सांकृत्यायन
2. Cula-Malunkyovada Sutta translated from Pali by Thanissaro Bhikhu

Wednesday, 18 December 2019

Pensioners' Day


Every year 17th day of December is celeberated as Pensioners' Day since 1983.

The word 'Pension' is said to have its origin in Latin word pensio meaning payment. As per Wikipedia earliest form of compensation or pension was that of Roman King Ceaser. He used to pay some amount from his military treasury to keep the retired & wounded soldiers quiet. 

Pension in different forms to widows, old aged, orphans & disabled was granted by Arab Khalifas also out of Zakat or charity contributed by general society. Different countries have own systems of pension most popular being social insurance system. Following chart from Wiki shows pension systems by country.

Chart on Pension Systems in world - downloaded with thanks from Wikipedia. This chart however, needs updation 

History of pension in India is more than 150 years old. This pension system in India was introduced by the British in colonial India after the Indian independence struggle in 1857. This was a reflection of the pension system then prevelant in Britain. The then British government decided to provide money cover to retired employees for their post retirement life. 

The system was formalised by the Indian Pension Act of 1871. However the final authority of granting of pension was vested with Viceroy and Governors. Thus the pension was at the mercy of authorities rather than by default.

British government ocassionally allowed increase in amount of pension keeping in view the increase in costs, that is inflation. 

Even though the retirement benefits were being given by the government, they were not incorporated in Fundamental Rules made effective from 1-1-1922. 

Shri D.S.Nakara, Financial Advisor to Ministry of Defence who was an officer from Defence Service Audit & Accounts faced problems in getting pension when he retired in 1972. He lodged a petition in the Supreme Court. 

Chief Justice Yashwantrao Chandrchud heard the petitioner as well as the government pleas and ruled that pension is neither a gift nor a reward or bounty. Pension is the right of a retired government servant who had served nation for a long time. Government is bound to ensure that her emploees lead a peaceful and honourable life after retirement. 

This historical judgment was issued on 17 Dec 1982. Hence The Pensioners' Day.

In India Provident Fund based pension was in vogue till 2003 as is shown in the above chart. This Pension Scheme was scraped By Vajpayee govt & in its place new pension scheme NPS was launched in January 2004 for govt employees. Subsequently in 2009 it was extended to all sections of society. Broadly a subscriber may contribute in his pension account during working life. Subsciber could withdraw the amount later in parts - a part in lumpsum & other part in annuity to get regular income. This Scheme has recieved mixed reactions. Modifications of NPS is likely and may follow.

P.S. Wanted to publish this on 17th December but could not as internet was cut off by the govt. in Meerut due to agitation against CAA. Governments whether present one or earlier ones are unfortunartely less interested in welfare schemes for the seniors, elderly, widows & disabled. By & large such schemes are considered burden on exchequer.


Thursday, 12 December 2019

चप्पल

हमारी कालोनी के तीन तरफ ऊँची दीवार है और दीवार के पीछे काफी बड़ा और घना जंगल है. इस दीवार की वजह से आप जंगल में नहीं जा सकते हैं, और न ही जंगलवासी इस तरफ आ सकते हैं. दीवार के कारण जंगल वासी समझते हैं कि वो सेफ हैं और कॉलोनी वाले समझते हैं कि वो सेफ हैं ! कभी कभी एकाध कॉलोनीवासी चिकेन मटन का स्वाद ले कर बची हुई हड्डियां दीवार के पार फेंक देते हैं. उस शाम सियारों की हुआँ हुआँ की आवाज़ आ जाती है. यदा कदा अगर सब्जियां या फलों के छिलके फेंक देते हैं तो नील गाय आ जाती है. सुना है की एक दो बार उच्चकों ने भी दीवार फांदने की नाकाम कोशिश की है. 

दीवार के पीछे जंगल 
बहरहाल दीवार के पास धूप अच्छी आती है तो कुछ बुज़ुर्ग वहां अड्डा जमा लेते हैं. गपशप चलती है और बहस होती है जिसका कोई ओर छोर नहीं होता और न ही कभी समापन होता है. सोमवार को ग्रोवर जी ने सूचना दी कि ये चप्पलें इसी तरह से कई दिनों से पड़ी हैं. किसकी हो सकती हैं? पता नहीं कोई काम वाली छोड़ गई है शायद.
- ग्रोवर जी, सिंह साब बोल पड़े, आप काम वालियों पर बड़ी नज़र रखते हैं?
- शटअप अवतार सिंह हर वक्त मज़ाक अच्छा नहीं होता.
तब तक गोयल साब ने गणेश जी को उठाकर और साफ़ कर के फिर से चबूतरे पर विराजमान कर दिया.
- देखो भई, राणा जी बोले, अगर ये कई दिनों से चप्पल पड़ी हैं और उठाई नहीं गई तो ये अच्छी बात नहीं है. कहीं कोई दीवार फांदने की तैयारी में यहीं छोड़ गया हो. सीरियस मामला है समझा करो. 
हवाई चप्पल 

- कमाल है राणा जी ! दूर की कौड़ी लाए हो. 
- अरे भई देख नहीं रहे गिरी हुई चप्पल ? दीवार पर पैर जमा नहीं पा रहा होगा चप्पल फैंक कर भाग लिया होगा जंगल में ! ये देखो इंटों के बीच जगह में पैर जमाने की कोशिश की होगी पर जमा नहीं होगा. सुसरे की चप्पल अटक रही होगी. चौकीदार से पूछताछ करनी पड़ेगी.  
- पूरे करमचंद जासूस हो यार आप. 
- भई छोटी छोटी भूल बाद में भयंकर नतीजे ले कर आती है. आप गाड़ी का ताला लगाना भूल जाओ तो बस गई गाड़ी आपकी. आपको पता है फिरंगियों ने थोड़ी थोड़ी जगह ली थी व्यापार करने के लिए. फिर व्यापारिक बँगले  बनाए, फिर एक राजा को कब्जे में ले लिया फिर दूसरे राजा को और फिर इतिहास ही बदल गया. समझा करो. हिटलर ने क्या किया ? पोलैंड में रेडियो प्रोग्राम करने के लिए कलाकार भेजे. उन कलाकारों ने पोलिश रेडियो स्टेशन पर ही कब्जा कर लिया ! देख लो फिर इतिहास बदल गया. महाभारत में तो ऐसे छोटी छोटी गलतियां भरी पड़ी हैं जिसके कारण इतिहास बदल गया. समझा करो ! 
- राणा जी की यही तो खासियत है की काम कृषि मंत्रालय में करते थे और बातें इतिहास की करते हैं.
- अरे भई अपनी सेफ्टी तो ज़रूरी है की नहीं ? अखबार में आये दिन बुजुर्गों की लूटपाट और मर्डर के किस्से पढ़ते हो की नहीं. चप्पल पड़ी है दीवार के पास तो ध्यान नहीं जाएगा क्या ? चोर उचक्का हो सकता है ? हो सकता है मर्डर के इरादे से कूदा हो ? इतने सीनियर जोड़े यहाँ रहते हैं कुछ भी हो सकता है. 
- राणा जी फिलहाल तो वो मेड आपकी तरफ ही आ रही है. इसे इतिहास समझाओ.
मेड ने आकर झेंपते हुए चप्पल उठा ली और पहन कर चल दी. 



Sunday, 8 December 2019

बॉल पॉइंट पेन

बैंक में प्रमोशन मिली तो उसके बाद दो साल के लिए किसी गाँव में जा कर नौकरी करनी जरूरी थी. चिट्ठी ले कर दिल्ली से पहुंचे मेरठ रीजनल ऑफिस. बॉस से मुलाकात हुई, 
- दिल्ली के नज़दीक ब्रांच दे रहा हूँ क्यूंकि दिल्ली वालों की नाक दिल्ली की तरफ ही रहती है. दिल्ली मत भागते रहना कुछ काम कर के भी दिखाना है.
- जी सर ! बिलकुल सर ! ( चिलम तो आप की ही भरनी है सरकार !). 

बॉस ने भुड़बराल शाखा में भेज दिया. शाखा की लोकेशन तो बढ़िया थी. मोदीनगर से मेरठ की तरफ जाएं तो दस बारह किमी आगे गाँव था. मेन रोड से दो तीन किमी अंदर गाँव में शाखा थी. शाखा पहुंचे तो देखा के गेट पर डीज़ल का जनरेटर भड़भड़ की आवाज़ के साथ स्वागत में धुंआ फेंक रहा था. अंदर काउंटर पर भीड़ थी जिसमें अंगूठा टेक ज्यादा नज़र आ रहे थे. याने इस प्रदेश की एक नार्मल ब्रांच थी. 

बैठ कर हिसाब लगाया कि फटफटिया से दिल्ली तक डेली अप-डाउन किया जा सकता है या नहीं. पर बारिश या ठण्ड में दिक्कत हो सकती है. और फिर बॉस को भी खुश रखना था इसलिए गाँव में आपातकालीन व्यवस्था कर लेना ही ठीक था. बड़ी मुश्किल से एक चौधरी साब के हाते में कोने वाले कमरे में जगह मिली. बाथरूम तो अटैच कहाँ से होना था वो तो हाते से भी डिटैच था. साल में 10-15 दिन की बात है चलो यही सही.

हमारे मकान मालिक चौ'साब के दो बेटे फ़ौज में थे. तीन बेटियों में से बड़ी शायद 14-15 साल की थी और दो छोटी स्कूल जाती थीं. बड़ी वाली आठ पास कर चुकी थी इसलिए आगे क्या पढ़ाई करवानी थी. उसने कोई नौकरी थोड़े ही करनी है. आगे चल कर घर परिवार संभालना है, रोटीयां बेलनी हैं. सो वो कर भी रही थी. दो भैंसों का चारा भूसा डालना, दूध निकालना, घर की साफ़ सफाई और परिवार की रोटी टिक्कड़ सब ख़ुशी ख़ुशी अकेले संभाल लेती थी. उसे भी पता था कि आगे भी ज़िन्दगी ऐसे ही चलती है. 

एक शनिवार दोपहर को काली घटा के साथ जोरदार बारिश शुरू हो गई. फटफटिया पर दिल्ली जाने का मतलब नहीं था. तो वहीं रुकने का फैसला कर लिया. इतवार को कहीं आसपास घूम लेंगे. सुबह देखा तो अहाते में सफाई अभियान चल रहा था और पूरे घर में पकवान बनने की खुशबू फैली हुई थी. 
चौ'साब ने दरवाजा खटखटाया और पूछा,
- मनीजर साब पेन है जी आपके धोरे?
- हाँ हाँ. मैंने एक बॉल पॉइंट पेन पकड़ा दिया और पूछा,
- चौ'साब बड़ी तैयारी हो रही है?
- ना ना बस जी आज मेहमान आ रए.
- ठीक ठीक. मैं तो ज़रा निकलूंगा शहर की तरफ.
- हाँ जी हाँ घूम लो जी आप. 
आधे घंटे बाद जब तैयार होकर बाहर निकला तो बड़ी लड़की शर्माती हुई मिली. अच्छे से कपड़े पहन कर सुंदर लग रही थी. पर गले में वही पेन धागे में पिरो कर पहना हुआ था. जल्दी में मैंने पूछा नहीं ऐसा क्यूँ किया. शाम को वापिस आया तो चौ'साब से बातचीत हुई,
- मेहमान चले गए?
- जी वे तो दोपहर को ही जा लिए. मनीजर साब बड़ी बिटिया सयानी हो गई जी उसी का रिश्ता लेकर आये थे जी. 
- अभी तो छोटी लगती है चौ'साब. और वो बिटिया ने पेन गले में टांग रखा था तो मैंने सोचा फिर से पढ़ने जाएगी. 
- ना जी अब क्या पढेगी. पेन तो नूं टांग राख्या था जी की लड़के वालन को भी पता लग जा के लड़की पढी लिखी है.

मन ही मन बिटिया को आशीर्वाद दे दिया.
  
पेन