Pages

Saturday, 4 June 2016

कसौली, हिमाचल

कसौली एक सैनिक छावनी है और जो शिमला हिल्स में बसा एक छोटा सा शहर भी है। शिमला से लगभग 77 किमी और चंडीगढ़ से 65 किमी दूर है। हिमालय एक्सप्रेस मार्ग बनने से अपनी गाड़ी ले जाना काफ़ी आसान हो गया है। पर जैसे जैसे उपर जाते हैं उतराव, चढ़ाव और तीखे घूम हैं ध्यान से चलाएँ। 

कसौली सोलन ज़िले का हिस्सा है और इसकी ऊँचाई 6300 फ़ीट से ज्यादा है। तापमान सर्दियों में 2 डिग्री से गरमियों में 32 डिग्री तक जा सकता है। बारिश भी काफ़ी होती है - 1020 मिलीमीटर। इसलिए पेड़, पौधों, फूलों और चिड़ियों की भरमार है। एक सुंदर हनुमान मंदिर  'मनकी प्वाईंट' है (मंकी नहीं बल्कि मनकी) पर वायुसेना के परिसर के भीतर होने के कारण फ़ोटो नहीं ली जा सकी। क़रीब  500 सीढ़ियों की घुटने-तोड़ चढ़ाई है। 

शांत और हरे भरे वातावरण का कुछ दिन रह कर आनंद लिया जा सकता है। बजट होटल और मंहगे रिसोर्ट सभी तरह के ठिकाने उपलब्ध हैं। कसौली में पेट्रोल पम्प नहीं है इसलिए इंतज़ाम कर के चलें। रास्ते में परवानू के पास टिम्बर ट्रेल में रोपवे याने उड़न खटोले का भी आनंद लिया जा सकता है। प्रस्तुत हैं कुछ चित्र :


टीवी टावर 

सिनेमा हाल की मरम्मत जारी है। यहीं केतन मेहता की फ़िल्म 'माया मेमसाब' की शूटिंग हुई थी जिसमें दीपा मेहता और शाहरुख़ खान भी थे


हॉकी के ओलम्पियन खिलाड़ी मेजर ध्यान चंद का स्मारक 


कसौली की सबसे पुरानी - लगभग 150 साल पुरानी, ऐतिहासिक इमारत लोअर पाइन मॉल में


क्राईस्ट चर्च कसौली। 26 अक्तूबर 1844 को इस चर्च की नींव रखी गई थी। लगभग नौ सालों में तैयार हुई चर्च पर 18300 ₹ की लागत आई


लोअर बाज़ार। चाय, गरम समोसे, जलेबी, शालें, हिमाचली टोपियाँ वग़ैरा आप ले सकते हैं 


"दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ, बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ"


रंग बिरंगी छाते। अगर कसौली में कुछ दिन रहना है तो एक छाता और एक टोर्च अपने साथ ज़रूर रखें। मौसम बेईमान होते और अंधेरा छाते देर नहीं लगती !

पुराना कसौली

उड़न खटोला-आना जाना मात्र 770 ₹ में







Post a Comment