Pages

Saturday, 30 August 2014

Long drive to Delhi - 2

Preparations:
Now that Bangaluru - Kanyakumari - Delhi journey has been decided, preparations are on.

The Buggy - Lord Ganesha uses a mouse to ride around the universe, Goddess Laxmi uses an owl to fly around but we heathens shall be using Maruti Alto 800 for the journey. This Buggy has been got serviced, a kit to repair punctures, a tool kit supplied by manufacturer, a spare tyre, a litre of coolant, perfume for a/c are on board. Music system is there to listen to ghazals in the evening & puzzles in the morning.

Herbals & non-herbals - As is customary home remedies are must which include honey, pudin hara,  लौंग-cloves, इलायची-cardamom,  गुड़-jaggery, अजवाइन, इसबगोल, हल्दी-turmeric and mustard oil which shall be used by travellers to massage each other! Besides my समधी Dr Anil Taneja has given a long list of prescriptions for common cold, body ache, vomiting, fever, stomach upsets, for loose motions & for no motion!

Clothesline - Weather for Sept & Oct should have cool mornings & evenings all over India. Ocassional shower could greet us which is welcome. Jeans & T's suit well in this weather & there is no need of woollens. I guess Lungi would be a better option than jeans in Tamilnadu, Kerala, Karnataka & white Dhoti for Maharashtra, Gujrat & Rajasthan. 

Misc items - Yoga mats, mobiles with GPS & an iPad to write daily blogs on. Shoes, chappals & caps. There is always a problem of carrying a camera. In some temples they allow camera on a fee some do not permit camera at all. Visit to monuments is also on payment of fee + camera fee + parking fee. Com'on have mercy on Sr Citizens!

Tolls - In our 2011 road trip of Delhi - Ahmedabad - Somnath - Dwarka - Diu and road trip of 2013 within Karnataka - Mysore, Manglore, Badami, Chitradurga, Hassan & Pondicherry shortage of coins & small currency notes was irritant. On many toll booths we ended up paying more than required. This is being kept in mind this time.

Besides toll for the bad roads, there were many tolls for bridges & sometimes even for entering the municipal limits! We argued in Hindi & they would reply in local language & only solution was to pay. 
द होल थिंग इज़ दैट की भैया सबसे बड़ा रूपैय्या । 

We never understood as to how they calculate the tolls & for what distance. Their calculations are similar to hidden charges levied by Firangi banks!

The Buggy with KA & MA 







Thursday, 28 August 2014

Long drive to Delhi - 1

Bangalore was established by Hiriya Kempe Gowda in the year 1537. Since then Bangalore has patented its beautiful weather & non-stop cool breeze. IT people re-discovered the place in 1970 & have made it a metropolis having a population of over a crore ( in fact IBM was here in 1966 ).

While visiting my son Mukul & daughter in law Sippy in Bangaluru discussion veered around to various places of interest like Rameshwaram, Kanykumari, Munnar etc. Sippy was ready to loan her car for this tour. 
- What if we explore more say neighbouring Goa & Maharashtra? 
- Keep exploring till you reach Delhi !

That settled it. Bangalore to Delhi via Kanyakumari in Maruti Alto 800 - wot an idea sirji !
Broad parameters of the journey were settled:

Driver - Harsh Wardhan Jog

Navigator - Gayatri Wardhan with the help of maps & GPS in mobiles. Of course desi method of enquiring from passers by, rickshaw wallas & auto wallas is always there. ओए पुछदा पुछदा ते बंदा काबल कंधार वी पौंच जांदाए !

Route - Nothing fixed. We take main roads & highways from Kanyakumari towards Delhi. In between places of interest shall be explored. Option to short circuit or to a longer route is always open. In any case a tentative route has been decided.


Long journey to Delhi - that's the likely route to be taken from Bangaluru to Delhi


Time Schedule - Nothing fixed. We stay in major / minor towns for a day or two or more if we feel like it or weather God asks us to. Driving hours 6 AM to 4 PM or a max distance of 300 km per day. शाम को छोटा लगाना है या नहीं ?

Luggage - At minimum level. Essentials - Tooth paste & brush to freshen up, Yoga mats for morning Yoga to ward off fatigue & hair dye to look younger!

Budget - Babe di full kirpa!

ETD - Expected time of departure from Bangaluru is first week of Sept 14.

Suggestions from friends & well wishers are welcome. Those on size of car shall be summarily rejected as that is the only choice available at the moment.
Friends max two in numbers with driving license are welcome to join for part journey. For full journey please bring your own Buggy else it may become a madhouse! 



Saturday, 23 August 2014

Motorcycle ride to Ladakh - Part 4 of 5

Following beautiful photo-blog has been contributed by my son Mukul Wardhan.
यह सुंदर फ़ोटो-ब्लॉग मेरे पुत्र मुकुल वर्धन की प्रस्तुती है । 

                                                                              *****
For us bikers it is a dream to kick start the bike & go on a long ride in to the Himalayas. Three of us started off from Delhi covering a distance of approx 3300 km.
Mukul Wardhan on Royal Enfield Classic 500,
Avnish Shukla on Royal Enfield Thunderbird 350 & 
Dev Badda on Royal Enfield Classic 350.
The route was :
Delhi - Pathankot - Jammu - Srinagar - Pahalgam - Drass - Kargil-  Mulbek - Leh.
> Leh - Khardungla - Diskit - Panamik - Hunder - Leh.
> Leh - Pang - Sarchu - Tendi - Jispa - Keylong -  Rohtang - Manali - Chandigarh - Delhi.
Photos have been taken on Nikon DSLR.
Hope you enjoy the scenery as much as we did.

- Mukul


Bara-lacha La Pass in Zanskar range connecting Lahaul district of Himachal to Ladakh. 16040 ft above sea level on Leh-Manali Road


Tea break after crossing in to Himachal



Jispa in Lahaul & Spiti district of Himachal


Near Tandi, Himachal


A village in Himachal


Reflection of Rohtang


Avnish says it with a smile


We were there says Mukul


Get the tank full now or else !


A river originates


Rohtang


Rohtang Pass - Avnish Shukla & Dev Badda


 Manali


Manali covered with clouds


* Motorcycle ride to Laddakh - 1 of 5.
http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/07/motorcycle-ride-to-ladakh-1-of-5.html

* Motorcycle ride to Laddakh - 2 of 5.
  http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/07/motorcycle-ride-to-leh-ladakh-2-of-5.html

* Motorcycle ride to Laddakh - 3 of 5.
http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/08/motorcycle-ride-to-ladakh-region-of.html

* Motorcycle ride to Laddakh - 5 of 5.
http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/10/motorcycle-ride-to-ladakh-5-of-5.html



Monday, 18 August 2014

सास का घर

जगत सिंह उर्फ़ जगतू एक ध्याड़ी मज़दूर है और ज़्यादातर खेत खलिहान में काम करता है । कभी कभी सफ़ेदी पेंटिंग भी करता है । मज़दूरी करते करते जगतू के हाथ पैर बड़े बड़े और सख़्त हो गए हैं । बीड़ी पीने और खाँसते रहने से गला भारी हो गया है । अपनी उम्र २४ साल बताता है पर लगता ३४ का है । अक्षर ज्ञान तो है पर ज़्यादा नहीं पढ़ा । पर है खुशदिल । काम करते करते भी कोई न कोई देसी राग गुनगुनाता रहता है । अगर पूछो की जगतू क्या गा रहा है तो हंस कर टाल देता है :
- बाबू सा म्हारे को न आता जी कुछ भी' । 

कई महीनों बाद दिवाली पर सफ़ेदी करने आया तो मैंने हाल पूछा । मुस्करा के बोला :
- म्हारा ब्या हो गया बाबू सा । 
- भई वाह जगतू बधाई हो । बहुरिया कैसी है ? ससुराल वाले कैसे हैं ?
- ससुर तो गुजर लिया जी कभी का बस सासू और एक साली है बाबू सा । 
- तू साली के नाम पर शर्मा रहा है जगतू । क्या चक्कर है ?
- वो तो कन्नी काट दे बाबू सा । 

जगतू की कन्नी कुछ यूँ कटी । 

शादी के बाद पहली बार जब जगतू ससुराल गया तो बस से उतर कर खेतों के बीच पगडंडियों से होता हुआ लगभग पाँच सात किमी का रास्ता पैदल चला । झोंपड़े के दरवज्जे पर सासू ने बहुत सारे आशीर्वाद देकर स्वागत किया, खटिया डाल दी, अंदर से दरी लाकर खटिया पर बिछाई और फिर बोली 'बिराजो सा' । जगतू हवाई चप्पल उतार कर खटिया पर चौकड़ी मार कर बिराजमान हो गया । सासू फिर अंदर गई और अलूमिनीयम के गिलास में पानी लाई । पानी पी चुका तो सास ने गिलास वापिस लिया और फिर अंदर गई । इस बार वो एक बीड़ी का बंडल और माचिस लाई और ज़मीन पर बैठ गई । जगतू और सासू ने बीड़ीयां सुलगाई और इतमीनान से बतियाने लगे । जगतू मन ही मन बोला - गजब हो गयो जगतू !

दोपहर को पालक बथुए का साग, दो मोटे प्याज़, हरी मिर्चें और चूल्हे में सिकी चार मोटी रोटियों का डट कर आनंद लिया और लंबी तान कर सो गया । रात का खाना भी जमाई राजा को खटिया पर परोसा गया जबकी सासू, साली और पत्नी तीनों नीचे बैठ कर जीम रहीं थीं । ख़ूब गपशप के साथ कैंडल नाइट डिनर सम्पन्न हुआ । रात पत्नी के सहवास में गुज़री और सुबह उठा तो मन प्रफुल्लित था । जीवन में कितनी मिठास थी । आनंद ही आनंद । जगतू के जीवन की सबसे सुहानी सुबह ! मुस्कुराते हुए जंगल पानी के लिए गया । और मुस्करा के नीम की दातून करने के बाद झोंपड़े में वापिस आया । मुस्कुराते हुए ही खड़िया मिट्टी के डले से अंदर की दीवार पर लिख दिया :

सास रो सुख का वास रो !

याने सास का घर तो बस सुख का घर है । सास तो न पढ़ सकी पर साली ने पढ़ लिया । उसका माथा ठनका और फ़ौरन जगतू की लाइन के नीचे जवाबी लाइन लिख दी की तू दो दिन का मेहमान है जीजू :

जदी दो दिन का आसरो !

दो दिन का आश्रय ? जगतू पढ़ कर भड़क गया कमबख़त ज़बान चलाती है तो ले अब नहीं जाता । धमकी भरी तीसरी लाइन लिख मारी :

रहूंगो तब लो, जब लो साँस रो !

साली तिलमिलाई की इस निकम्मे जीजू ने तो यहीं रहने की ठान ली है । ठोक कर लिख दी जवाबी लाइन :

दे दूँगी खुरपो खोदेगो घास रो !

जगतू ने पढ़ा, पोटली बाँधी और घर की राह ली । अगर खुरपा ही चलाना है और घास ही खोदनी है तो घर में ही खोदेंगे ना !

ससुराल की ओर !

पुनश्च - यह क़िस्सा कई बरस पहले आदरणीय सी पी स्वर्णकार जी ने आडीटरों की एक बैठक में सुनाया था । हालाँकि मैंने अपने ही ढंग से लिखा है । वे उन दिनों पंजाब नैशनल बैंक में डीजीएम थे और कुछ समय पहले सिंडीकेट बैंक के चेयरमैन पद से रिटायर हुए हैं । 

Saturday, 16 August 2014

Motorcycle ride to Ladakh Region of Himalayas - Part 3 of 5

Following beautiful photo-blog has been contributed by my son Mukul Wardhan.
यह सुंदर फ़ोटो-ब्लॉग मेरे पुत्र मुकुल वर्धन की प्रस्तुती है । 


For us bikers it is a dream to kick start the bike & go on a long ride in to the Himalayas. Three of us started off from Delhi covering a journey of approx 3400 km:

Mukul Wardhan on Royal Enfield Classic 500,
Avnish Shukla on Royal Enfield Thunderbird 350 & 
Dev Badda on Royal Enfield Classic 350.

The route :
Delhi - Pathankot - Jammu - Srinagar - Pahalgam - Drass - Kargil - Mulbek - Leh.
> Leh - Khardungla - Diskit - Panamik - Hunder - Leh.
> Leh - Pang - Sarchu - Tendi - Jispa - Keylong -  Rohtang - Manali - Chandigarh - Delhi. 

Photos have been taken on Nikon DSLR. Hope you enjoy the scenery as much as we did.

- Mukul

May be Huen Tsang passed through this way!

Which way?

Taglang La awaits you

We did it!

Another milestone 

Here you are in More Plains. Make your own road!

Tough boys, tough bikes on tough roads

Tea break

Yes they are telling a story!

Cold & dusty

Beasts in business

Follow the foot prints!

Crossed the More Plains, hooray! 


Well done

More photos are available on following links:

* Motorcycle ride to Laddakh - 1 of 5.
http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/07/motorcycle-ride-to-ladakh-1-of-5.html

* Motorcycle ride to Laddakh - 2 of 5.
http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/07/motorcycle-ride-to-leh-ladakh-2-of-5.html

* Motorcycle ride to Laddakh - 4 of 5.

* Motorcycle ride to Laddakh - 5 of 5.
http://jogharshwardhan.blogspot.com/2014/10/motorcycle-ride-to-ladakh-5-of-5.html



Friday, 15 August 2014

Happy Independence Day!

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ  Happy Independence Day



            

Thursday, 14 August 2014

जुलाई का आख़री दिन

छोटे से क़स्बे अम्हेड़ा के रहने वाले मोहन सिंह अपने को बड़ा ठेकेदार मानते हैं जबकी रिटायर हो चुके हैं । और ख़ुद को ठेकेदार साब कहलाना पसंद करते हैं हालाँकि सरकारी विभाग उन्हें पैटी कॉंट्रेक्टर कहता था । अब तक ७५ जन्मदिन पार कर चुके हैं पर अभी भी सुबह धीरे धीरे भजन गाते गाते चाय बना लेते हैं और साथ में कभी डबलरोटी के दो पीस या बिसकुट या मुरमुरे ले लेते हैं । एक कारण ये भी है की ख़ुद तो पाँच बजे उठ जाते हैं जबकी दोनों बेटे, दोनों बहुएँ और उनके तीन बच्चे सात बजे से पहले नहीं उठते । 

ठेकेदार साब ख़ुद ग्राउंड फ़्लोर पर रहते हैं, बड़ा बेटा पहले माले पर और छोटा बेटा दूसरे माले पर रहता है । यह मकान भी ठेकेदार की अपनी मेहनत और बचत का फल है क्यूँकि दोनों बेटों ने इसमें कोई योगदान नहीं दिया । इन दोनों के भरोसे तो इस शहर में यह मकान कभी नहीं बन पाता । ठेकेदार साब को यदा कदा जब भी ग़ुस्सा आता है तो इस बात का ज़ोरदार व्याख्यान कर देते हैं । ऐसे ऊँचे दर्जे के व्याख्यान के बाद माहौल गरमा जाता है। दोनों बहुएँ कभी कभी पलटवार कर देती हैं या फिर पतियों से या फिर आपस में ही उलझ पड़ती हैं । पर पड़ोसी मज़ा लेते हैं । 

ये मकान ही नहीं जब ठेकेदार साब ने देखा की दोनों बेटे पढ़ेंगे नहीं तो दो दुकानों का भी बंदोबस्त कर िदया था । बड़े बेटे की दुकान बिजली के सामान की और छोटे की दुकान में घरेलू सामान है । दाल रोटी तो चल रही है पर ख़ैर बर्तन हों तो टकराते ही हैं । ठेकेदार साब की घरवाली गुजर गई है और पिछले तीन साल से स्वर्ग में निवास कर रही है । 

दो ढाई साल तक तो ठेकेदार साब ने ख़ुद ही रोटियाँ बेली, कभी दाल भात तो कभी खिचड़ी, कभी डबलरोटी, कभी फलाहार कर लिया । पर पिछले चार पाँच महीनों से स्वास्थ्य ठीक नहीं चल रहा है । घुटने में काफ़ी ज़्यादा दर्द रहने लगा है और चश्में का नम्बर भी बढ़ गया है । खाना बनाने में काफ़ी दिक़्क़त आने लग गई थी । बहस मुबाहसे के बाद यह तय हुआ की सुबह का चाय नाश्ता तो ठेकेदार साब ख़ुद ही बना लेंगे । जून के महीने से दोपहर और रात का खाना बड़ी बहू के जिम्मे रहेगा और जुलाई महीना छोटी बहू के जिम्मे और इस तरह यह एक एक महीने का क्रम जारी रहेगा । 

आज जुलाई महीने का आख़री दिन था और ठेकेदार साब दोपहर की नींद ले रहे थे । नींद खुली तो देखा की तीन बज रहे थे । कुछ भूख भी महसूस हो रही थी । पर किचन में थाली नहीं थी । इधर उधर देखा थाली कहीं भी नज़र नहीं आई ।  सोचा कि देख गई होगी की अभी सो रहे हैं इसलिए शायद वापिस ले गई होगी । पर जब पाँच बजने को आए तो ठेकेदार साब ने आवाज़ लगाना शुरू कर दी :
- अरे थाली कहाँ है ?
- अरे कोई जवाब तो दो !
छह बजने तक तो ठेकेदार साब ने कोहराम मचा दिया पर छोटी बहू नहीं आई नीचे । सात बजे नीचे उतरी तो बड़ी बहू ने छोटी बहू से पूछा:
- अरे आज थाली नहीं देनी थी क्या? क्या हुआ? बेचारे भूखे बैठे हैं । 
- मुझ पर क्यूँ बरस रही हो, थाली तो तुमने देनी थी । 
- मैंने ? मैंने कैसे ? महीना खतम कहाँ हुआ ? आज तो जुलाई का आख़री दिन है ना ?
- वाह ! तेरे जून में तीस दिन और ३०-३० थालियाँ और मेरी जुलाई में ३१ दिन और ३१-३१ थालियाँ ? आज तो तेरा नम्बर था मेरा नहीं । 

बहुत कठिन है डगर पनघट की !



Tuesday, 12 August 2014

साहब प्रमोट हुए

कटारिया साहब ने गाड़ी चालू की और डैशबोर्ड पर लगी शंकर भगवान की मूर्ति पर नन्हें नन्हें बल्ब जगमगाने लगे । तीन बार नमस्कार किया और तीन बार कानों पर हाथ लगाया फिर पहला गीयर लगा दिया । अब यहाँ से बैंक तक दस किमी लम्बे रास्ते पर जितने मंदिर, गुरुद्वारे, पीर पैग़म्बर और पीपल के पेड़ मिलेंगे साहब सभी को नमन करते हुए जाएँगे । चौराहे पर अगर कोई भिखारी मिला तो उसे आज दस का नोट मिलेगा । 

मन में वैसे तो आश्वस्त हैं की आज प्रमोशन हो ही जाएगी पर क्या जाने कोई काली बिल्ली ऐन मौक़े पर रास्ता न काट जाए सुसरी । वैसे तो रीजनल मैनेजर से बढ़िया सम्बन्ध हैं और चेयरमैन के पास नेता जी का फ़ोन जा चुका है और विश्वस्त सूत्रों ने विश्वास दिला दिया है की प्रमोशन पक्की है, पर साहब बड़े बड़े खिलाड़ी पड़े हैं देश में कहीं कोई कन्नी न काट जाए । 

अब पचपन साल की उम्र हो गई है और शायद ये आख़री मौक़ा है प्रमोशन का । गोल चेहरा है गोरा रंग है वैसे भी गोल मटोल हैं । बड़ा सा गोल पेट है, सिर के बाल उड़ चुके हैं । दोनों कानों के बीच सफेद बालों की एक झालर है िजस पर कभी कभी काला रंग लेप देते हैं । झालर पर दिन में चार पाँच बार कंघी ज़रूर फेरते हैं । दफ़्तर में ज़्यादातर गोलू या मोटू के नाम से जाने जाते थे । 

दफ़्तर पहुँचे । केबिन में टेबल पर रखे शीशे के नीचे रखी हुई भगवान की तीन फोटों पर तीन बार नमस्कार किया और कानों को हाथ लगाया । आज का दिन था ही ऐसा - आर या पार । 

तीन बजे रीजनल मैनेजर का फ़ोन आया । 
- कटारिया हो गया तेरा काम । लिस्ट निकल गई है । 
- थैंक्यू सर थैंक्यू सर । आई टच योर फ़ीट सर ! सब आपकी आशीर्वाद है सर । पोस्टिंग भी तो आपने करवानी है सर । 
- करवाते हैं । 

साहब ने चैन की लम्बी साँस ली और घंटी बजा कर चाय मँगाई । चाय वाले को कहा की भाग कर बढ़िया वाले लड्डू ले आए और सब का मुँह मीठा करा दे । चेहरे पर मुस्कराहट आ गई । मूड बन गया । फ़ोन मिलाने शुरू किये । मीना का फ़ोन बिज़ी मिला, दोनों बच्चों को एसएमएस किए । दोस्तों यारों को ख़बर की । उन्हे इस अंदाज में बताया की ये तो होना ही था । आख़िर काम करने वालों को कौन रोक सकता है प्रमोशन से । जिनकी तरक़्क़ी नहीं हुई उन्हे सांत्वना दी की यार लाईफ़ में ये सब तो चलता ही रहता है, अगली बार सही । 

इधर बात केबिन के बाहर निकली और उधर स्टाफ़ केबिन के अंदर आ गया । मुबारक हो, बधाई हो सर, पार्टी कहाँ है सर?, सर आपको तो मिलनी ही थी सर, कहाँ पोस्टिंग होगी सर? बड़ी ख़ुशी हुई सर, वग़ैरा वग़ैरा । एक दम से ज़िंदगी में मिश्री सी मिठास घुल गई । फ़ोन रुक नहीं रहे थे । साहब गदगद हुए जा रहे थे । 

डिनर होते होते तक साहब को समझ आ गया की मैं अब वाक़ई बड़ा साहब बन गया हूँ । रात के बारह बजने वाले थे बिस्तर में लेट कर एक बार फिर लम्बी साँस लेकर पूरे दिन का फिर ज़ायक़ा लिया । मीना की तरफ़ हाथ बढ़ाया पर उसने 'हुंह' करके हाथ वापिस फैंक दिया । फिर ट्राई मारी पर इस बार कर्कश आवाज़ में घोषणा हुई 'क्या है?' बड़े साहब ने मायूसी से करवट ली और बड़बड़ाए 'यो न समझे सुसरी' । 

शनिवार शाम शानदार पार्टी हुई । बड़े साहब ने दिल खोल कर पी और पिलाई । बारह बजे तक  बिस्तर पर पहुँचे । पहुँचते ही लुढ़क गए । 
मीना ने धीरे से हाथ लगाया और पूछा:
- सो गए क्या?
कोई जवाब नहीं आया । मीना बड़बड़ाई:
- मोटा टुन्न हो गया । 

मीठा लीजिए ना !